शनिवार, 20 अक्तूबर 2012

''...पुनि पुनि जन्म मरण से मैं छुटकारा पाऊँ ...''


पुनि पुनि जन्म मरण
से मैं छुटकारा पाऊँ 

जिंदगानी अपनी 
तेरी शरण लगाऊँ
देह बदल के अपनी
ना फिर मैं आऊँ  

पुनि पुनि जन्म मरण
से मैं छुटकारा पाऊँ 

माया जाल में पुनः
ना अब खो जाऊँ 
भवसागर से हे हरी
अब यूँ तर जाऊँ  

पुनि पुनि जन्म मरण
से मैं छुटकारा पाऊँ 

शरणागत को हे प्रभु
अपनी शरण लगाओ
नैया मेरी अब तो 
प्रभु पार लगाओ

पुनि पुनि जन्म मरण
से मैं छुटकारा पाऊँ 
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...